loading...

कोचिंग सर की बीवी की अन्तर्वासना

कोचिंग सर की बीवी की चुदाई, antarvasna chudai ki.dastan चलिए चलते हैं स्टोरी पर…
स्टोरी के चरित्र चरित्रों के नाम परिवर्तित कर दिए गए हैं फिर भी अगर किसी को आपत्ति या विपत्ति हो तो क्षमा करें!

बात कुछ 4 महीने पुरानी है, मैं एक कोचिंग में जाता था जिसका टीचर लगभग 30-32 साल का तो होगा ही, साथ में थोड़ा नाटा लगभग साढ़े चार फ़ीट का होगा हमारे कॉलेज में प्रॉफेसर था.
एक साल तक तो मैं उसके स्टडी सेंटर पर जाता रहा, इसके बाद मैं उसके घर पर बनी क्लास मे जाने लगा जहाँ पर बैच टाइम सुबह 7:00 था. मैं थोड़ा जल्दी निकल जाता था तो लगभग 6:50 से पहले ही पहुँच जाता था.

जैसा मैंने बताया कि मैं एक निहायती चूतिया किस्म का प्राणी हूँ, मतलब एकदम शान्त बुझा हुआ सा जो अपने में ही खोया रहता है, जिसका कोई दोस्त नहीं है, और दोस्त बनाता भी नहीं हो! लोगों से इतना डरता या झिझकता हो कि अपना नाम बोलने में ही हकलाता हो तो बाकी की बात बोलना तो दूर की बात!

तो मैं भी जल्दी पहुंचकर बाहर खड़ा हो गया. लगभग 1 मिनट के बाद अंदर से सर की बीवी आई और मुझसे बोली- आज तुम थोड़ा जल्दी आ गए?
और मुझे रूम की चाबी दे दी.
मैं गया और ताला खोलकर अंदर बैठ गया.

थोड़ी देर बाद और विद्यार्थी भी आ गए तो हमने उस दिन की क्लास ख़त्म की और अपने अपने घर आ गए.

अगले दिन शायद मैं कुछ ज्यादा लगभग 15 मिनट पहले ही पहुँच गया तो वो बोलीं- आज सर थोड़ी देर बाद आएँगे, तुम थोड़ा ज्यादा जल्दी आ गए हो.
मैंने कहा कि नया रास्ता खोजने के चक्कर में एक शॉर्टकट से जल्दी पहुँच गया (कोचिंग से 2 किमी, दूर से)!
तो उन्होंने पूछा- कहाँ से आते हो?
और पानी ऑफर किया.

और थोड़ी बहुत नाम वगैरह की बातें हुईं और मैं चाबी लेकर रूम में चला गया.

ऐसा ही कुछ दिनों तक चलता रहा, कभी वो मुझे कुछ लेने भेज देती थीं. जैसा मैंने बताया कि मेरा कोई दोस्त नहीं है तो मैं वहां भी एक टेबल पर अकेला ही बैठता था, अकेला ही आता जाता और सिर झुकाकर चलता था.

एक दिन उन्होंने कहा- क्या हुआ, तुम बहुत उदास से लगते हो? मैं हमेशा तुम्हें ऐसे ही देखती हूं!
तो मैंने कहा- कुछ नहीं, मैं तो हूँ ही ऐसा.
उन्होंने कहा तुम्हारा कोई दोस्त नहीं है?
मैंने कहा- कोई खास मतलब बेस्ट फ्रेंड नहीं है और कोई बनता भी नहीं!
तो उन्होंने कहा- कोई गर्लफ़्रेंड?
मैंने कहा- मेरा अभी तक बचपन से कोई दोस्त नहीं है तो गर्लफ़्रेंड तो दूर की बात!

तो उन्होंने कहा- कभी बनाने की कोशिश की?
मैंने कहा- मुझे दोस्त बनाना नहीं आता और मुझे चाहिए भी नहीं.
तो वो बोलीं- कम से कम एक दोस्त तो होना ही चाहिए!
और उन्होंने मुझे अपना दोस्त बना लिया और मैं अपने घर आ गया.

उस दिन के बाद हम थोड़ी ज्यादा बातें करने लगे, एक दूसरे की सीक्रेट्स बताने लागे और एक अच्छी दोस्ती निभाने लगे.
अब मैं भी थोड़ा खुश था.

एक दिन मैं चाबी लेने के लिए घर के अंदर आवाज लगाते हुए चला गया. तब वो नहा रही थी, वो केवल पेटीकोट और ब्लाउज़ में नहा रही थी, उनका लाल कलर का पेटीकोट आधे से ज्यादा पानी से भीगा था और उनके बालों से पानी टपक रहा था जो उनके ब्लाउज से अंदर जा रहा था.

उस टाइम तक मैं सेक्स और उससे जुड़ी बातों के बारे में कुछ ज्यादा ही जानने लगा था. मैंने उनसे चाबी मांगी तो वो उसी अवस्था में उठीं और टेबल के ड्रावर से चाबी निकलने नीचे झुकी, जिससे गीला पेटिकोट उनके पिछवाड़े से चिपक गया, उनके बूब्स बहुत बड़े थे, ब्लाउज़ में कसे हुए थे.

तभी उन्होंने कहा- कहाँ खोए हुए हो?
तो मैंने कहा- कहीं नहीं… सॉरी!
और चाबी लेकर चला गया.

दूसरे दिन मैं अंदर गया तो वो चाय बना रही थी, मुझसे बोलीं- बाहर नोटिस नहीं देखा? आज छुट्टी है, तुम्हारे सर बाहर गए हैं.
तो मैंने कहा- ध्यान नहीं गया!

उन्होंने मुझे बैठने को कहा और चाय बना कर दी.
और मुझसे पूछा- कल कहाँ खोए हुए थे?
तो मैंने डरते हुए कहा- मेरी नजर गलत जगह चली गई थी, सॉरी!
तो वो बोली- गलत जगह कहाँ?

मैंने कहा- आप पर! वो आप पूरी गीली हो गईं थीं तो कुछ थोड़ा ज्यादा ही…
तो उन्होंने कहा- इसमें कोई गलत नहीं है.
मैंने कहा- मतलब?
तो वो बोली- हाँ, इसमें क्या गलत है, उस समय स्थिति ही ऐसी थी.

मैंने कहा- लेकिन…
उन्होंने कहा- लगता है कि तुम्हें एक हॉट सी गर्लफ्रेंड बनानी पड़ेगी.
तो मैं बोला- क्यों?
तो वो बोली- अब तुम्हारी नजर डोलने लगी है. और वैसे मैं तुम्हें कैसी लगती हूँ?

loading...

मैं बोला- ये कैसा प्रश्न हुआ? अच्छी और कैसी?
तो वो बोलीं- ऐसे नहीं, कल वाली नज़र से?
मैंने कहा- अच्छी और कैसी!
उन्होंने कहा- अच्छी मतलब?
मैंने कहा- अच्छी मतलब अच्छी बढ़िया!

तो वो बोली- ठीक है…
फिर बोली- तुम्हें कैसी लड़कियाँ पसंद हैं?
तो मैंने कहा- कैसी भी!
वो बोली- कोई फिगर तो होगा, मतलब दिखने में कैसी?
तो मैंने कहा- आप अपने जैसी मान लो!

उन्होंने कहा- ठीक है, देखते हैं.
तो मैंने कहा- कि आप क्या देखोगे?
तो उन्होंने कहा- तुम्हें हमसे ज्यादा कौन जाने?
तो मैंने कहा- ये भी ठीक है.
और मैं वापिस घर आ गया.

फ़िर मेरी तबियत अचानक बिगड़ गई और मैं तीन दिन तक नहीं जा पाया.

अगली बार जब मैं गया तो हमेशा की तरह अंदर आवाज लगाते हुए घुस गया. वो उसी दिन की तरह बाथरूम का दरवाजा खोल कर नहा रहीं थीं.
उस दिन वो पूरी गीली थी और पेटोकोट ब्लाउज पूरे बॉडी से चिपक गए थे.

मैं गया और जैसे ही उन्हें देखा एकदम पलट के खड़ा हो गया और चाबी मांगी.
तो वो बोलीं- पलट क्यों गए?
मैं बोला- आप नहा रहीं थीं तो मैं..!

तो वो बाथरूम से बाहर निकली और मुझे मुड़ने को कहा.
जैसे ही मैं मुड़ा, वो केवल ब्रा और पैंटी में खड़ी थीं तो मेरा मुंह थोड़ा सा खुल गया.
वो आगे आईं और मेरा मुंह बंद करते हुए बोली- इतने दिन कहाँ थे?
मैं हकलाते हुए बोला- बबबब..बी.. बीमार था.

तो उन्होंने मेरा खड़ा हो चुके लंड को हल्के से दबा दिया और एक शॉर्ट सी किस देकर बोली- छुट्टी के बाद मिलना!
और चाबी मेरी जेब में डाल दी.

मैं सोचने में ही लगा था कि क्या हुआ.
क्लास में भी मेरा मन नहीं लगा. छुट्टी के बाद मैं जा रहा था तो उन्होंने मुझे रोका, हाथ पकड़कर अंदर ले आई और बेड पर बिठा दिया.
और मेरे पीछे से कमर से होते हुए अपने हाथ डालकर बैठ गईं और बोली- क्या हुआ इतने चुप क्यों हो?
तो मैंने कहा- व्व वो कक क्या किया आपने?
वो बोली- क्या किया? और अभी तो होना बाकी है.

और मुझे घुमाकर किस करने लगी. पहले तो कुछ नहीं… फिर मैं भी शुरू हो गया.
थोड़ी देर बाद हम अलग हुए तो वो बोलीं- ये हुई न बात, तुझे तो कोई मिलने से रही तो मैं ही सही!
तो मैंने कहा- ठीक है फिर… लेकिन किसी ने देखा तो?
वो बोलीं- कोई नहीं देखेगा!
और मेरा लंड पैंट से बाहर निकाल लिया जो 7 इंच का था, बोली- ये हुई कोई बात! और मुंह में भर लिया.

मेरी कामुकता जाग उठी, मुझे मजा आने लगा और मैं उनका ब्लाउज खोलने लगा.
ब्लाउज़ उतारने के बाद मैं बूब्स पर बरस पड़ा, वो इतने बड़े थे कि मेरे दोनों हाथों में नहीं आ रहे थे. एकदम सॉफ्ट सॉफ्ट कड़क निप्पल के साथ वो चॉकलेटी निप्पल और अच्छे लग रहे थे.
मैं अपने होंटों से उन्हें चूस चूम व खींच रहा था, वो भी लंड को हाथ में लेकर मदहोश करने वाली अवाज निकाल रहीं थीं. धीरे-धीरे मैंने उनकी साड़ी और पेटिकोट भी निकाल दिया.

एक लकीर उनकी नाभि से होती हुई उनकी बुर तक जा रही थी. मैं अपनी उंगली धीरे धीरे उसी लाइन पर आगे बढ़ा रहा था और वो उछल रही थीं, कामुकता भरी सिसकारियाँ निकाल रही थी उम्म्ह… अहह… हय… याह…
उनकी चूत थोड़ी गीली, थोड़ी गुलाबी हल्के हल्के रोंये जैसे बाल, चॉकलेटी दाना और चूत के फूले हुए होंठ जिन्हें मैंने अपने होंटों में भर लिया और वहाँ से निकलने वाले कामरस का आनन्द ले रहा था, अपने जबड़े समेत जीभ को अंदर घुसा रहा था.

धीरे धीरे मैं उनकी गांड तक आया, एकदम गोरी, इतने बड़े बड़े उभार कि चूत के एक छोर से होती हुई एक लाइन आगे बढ़ रही थी और आगे न जाने कहाँ ख़त्म हो रही थी. दोनों उभारों को मैं सहला रहा था, थप्पड़ मार रहा था.
उन्होंने दोबारा मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसा, फिर मैं उनकी चूत पर आया, पहले तो मैंने उसमें थूक भरा, फिर अपना लंड लेकिन लंड भरने में मुझे दिक्कत हुई.
वो कुछ ज्यादा ही टाइट थी.

मैंने पूछा तो वो बोली- तेरे सर में इतनी ताकत नहीं है कि वो रास्ता बना सकें!

मुझे थोड़ी हंसी आई तो उन्हें थोड़ा दर्द हुआ और पूरा लंड उनकी चूत में…
मुझे थोड़ा सुकून मिला दर्द से और उनके थोड़े आंसू…
थोड़ी देर बाद सब सामान्य हुआ तो फिर चलाई मैंने असली चुदाई, दे दनादन दे दनादन… लगभग 20 मिनट के बाद वो और फिर मैं एक के बाद एक अंदर ही झड़ गए.

जब मैंने लंड बाहर निकाला तो वो लाल था. मैंने पूछा- खून कैसे?
तो वो बोलीं- मेरे उनसे तो सील तक नहीं टूटी थी जो तुमने तोड़ दी…

फिर क्या था एक बार और हुआ प्रोग्राम, उसके बाद मैं अपने घर आ गया.
और उसके बाद से कोचिंग के बाद वहीं रुकने लगा, सर कॉलेज जाते रहे.

कुछ दिनों के बाद सर को भी पता चल गया. तो सर पहले तो गुस्सा हुए, फिर नार्मल हो गए और बताया कि उन्हें ठोकने से ज्यादा ठुकवाना पसंद है.
हम दोनों ये सुनकर दंग रह गए कि सर एक गे हैं.
फिर क्या… हम सब थोड़े हंसे, थोड़े मुस्कुराए.

अगले भाग में मैं सर की गांड भी बजाऊंगा उनके सामने और उनकी मैडम की सर के सामने!
तब तक के लिए अपना हाथ जगन्नाथ.
अगर आपको पसंद आई या यह लगता हो कि फालतू टाइम बर्बाद किया, जो भी कमेंट या सुझाव या गाली… नो नो गाली नहीं लिख सकते!

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...