loading...

पड़ोसन लड़की की पढाई पढाई में चूत मार ली

पड़ोसन की चुदाई, पढैंकरते वक़्त चुद गयी पड़ोसन लड़की antarvasna hindi sex story आइये दोस्तो, आपको अपनी पड़ोसन रंगीली की गीली देसी चुत मारने की कहानी सुनाते हैं।
रंगीली मेरे कक्षा में ही पढ़ती है और मेरे पड़ोस में रहती है। हम दोनों इंटरमीडियेट फाइनल इयर में थे और दोनों का साइंस ग्रुप था। हम दोनों ही पढ़ने में होशियार माने जाते थे.

पर रंगीली होशियार होने के साथ साथ खूबसूरत भी थी। वो जब जीन्स टाप पहन के निकलती थी तो मुहल्ले के लड़कों की फट जाती थी चड्डी उसे देख कर!
कसम से कटीली जवानी की धनी रंगीली का हुस्न उसके नाम के अनुरूप ही था। उसका मरमरी बदन, मासूम चेहरा, भरी हुई लेकिन सपाट गांड जिसको देख कर देखते ही गांड मारने का मन करे। लाल लाल होंट गोरी गोरी बाहें, काली काली जुल्फें और चूचियाँ ऐसी कि बस देखो और दाब दो।
सामने से देखने पर उसको आप पलकें झपकाए बगैर देख सकते हैं। लोग अपना अस्तित्व भूल जाते हैं उसकी रंगीन जवानी को देख कर।

कपड़े भी वो ऐसे पहनती थी कि उसके रंग को निखार देता था। जबरदस्त और बेहतरीन गांड, चूचे और कमर के साथ रंगीली की अदाएं जोरों पर थीं.
मैं इस मामले में लकी था कि जब लोग अपने अपने बाथरूम में मूठ मार रहे होते उसके नाम पर, तब हम दोनों साथ साथ कालेज जाते और फिर साथ साथ आते।
इस दौरान हम दोनों कभी बैठ कर काफी या चाय भी पीते।

दिक्कत यह थी कि रंगीली मुझे अपने भाई की तरह मानती थी और इसलिए वो मेरे करीब ही रहती थी पर कभी सेक्स की फीलिंग नहीं आई उसके मन में मुझे लेकर।
जब कि उसे देखते ही मेरे दिमाग में फंतासियों का मेला चलने लगता था।

खैर हम साथ साथ थे तो कभी ना कभी तो ये साथ रंग लाने ही वाली थी। फाइनल इयर के एग्जाम आ रहे थे और हम दोनों ही प्रेशर में थे।

मैथ्स का पेपर सबसे ज्यादा टफ था और रंगीली मैथ्स में फिसड्डी थी। रंगीली ने उस रात मुझे अपने घर बुला लिया।
अंकल ने कहा- दोनों स्टडी रूम में बैठ कर सवाल लगाओ।

सर्दी के दिन थे, दोनों ही स्वेटर शाल पहने हुए सोफे पर बैठ कर पढ़ रहे थे। मैंने देखा, कि रंगीली परेशान लग रही थी.
मैंने पूछा- क्या बात है?
तो बोलने लगी- बहुत टेंशन हो रही है, मैं परेशान हूँ कि कल क्या होगा।

मैं उसके पास खिसक के बैठ गया और उसके हाथ पकड़ कर बोला कि डरो मत तुम्हें सब आता है, तुम अच्छे मार्क्स लाओगी, पर वो निराश थी।
वह मेरे कंधे पर हाथ रख कर बोली- पता नहीं मुझे क्यूं डर लग रहा है, प्लीज मुझे समझ नहीं आ रहा मैं क्या करूं?
और वो मेरे और करीब आ गई।

लड़कियाँ हताशा में होती हैं तो आसानी से चुद जाती हैं। मैं समझ गया था कि अब यह सही मौका है और लोहा गर्म है, उसके कंधे पर सर रख देने से उसकी बड़ी बड़ी चूचियाँ मेरे सीने में चुभ रही थीं।
मैंने अपना एक हाथ अनायास ही उसके दायें चूचे पर रख दिया। वो कुछ ना बोली।

रात के ग्यारह बज चुके थे और अंकल आंटी सो चुके थे। उनकी इकलौती बेटी मेरे साथ स्टडी कर रही थी।

loading...

मैंने हल्के से अपने हाथ से उसकी चूचियाँ सहलानी शुरु कर दी। वो मुझसे और चिपकने लगी थी, इसका मतलब था कि उसे यह अच्छा लग रहा था। सच में सेक्स से अच्छा टेंशन रिलीज करने का कोई बेहतर उपाय नहीं है।
इसलिए मैंने अब दोनों हाथ उसके दोनों चूचियों पर रख दिये और हल्के हल्के दबाने लगा। उसने आंखें बंद करके मेरे गोद में सर रख दिया।

अब उसने अपना मुंह मेरी पैंट के ऊपर किया हुआ था। लोवर में लंड तड़पने लगा उसके मुंह को पास पाकर… मैंने तपाक से उसकी दोनों चूचियों को छोड़कर उसे उठाया और सोफे पर लिटा दिया। वो सब जानकर भी आराम से लेटी थी, शायद उसे ये सब अच्छा लग रहा था और इसलिए उसने मुझे ये सब करने दिया था।

मैंने उसकी टॉप खोली। गोरी गोरी अक्षत चूचियाँ और काले काले निप्पल उसके दोनों ट्यूबलाईट जैसे स्तन की शोभा बढ़ा रहे थे।
मैंने उसको किस करते हुए दोनों चूचियों को सहलाना शुरु किया। वो मस्ताने लगी थी और अपनी दोनों पैर आगे पीछे करके गीली चुत में होती खलबली का संकेत दे रही थी।

मैंने उसकी स्कर्ट को भी खोल दिया और पैंटी भी तत्काल निकाल दी। अब उसकी बिना बाल वाली देसी चुत जिस पर हल्के हल्के मखमली भूरे रोयें खिल रहे थे, और गुलाबी पंखुड़ियों वाली फुद्दी मेरा दिमाग खराब कर रही थी।
मैंने एक गहरा चुम्बन लिया उसकी गीली चुत का और फिर अपना लंड उसके मुख में दे दिया, वो मेरा लंड चूसने लगी।
आह… मुखमैथुन का देसी अंदाज हमेशा बेहतर होता है।

उसने चूस कर मेरे लंड को फौलाद कर दिया था इसलिए मैंने उसको चोदने के लिए अपना लंड पोजिशन किया। उसकी टांगों के बीच में जाकर उन्हें फैलाया और गीली चुत में दो उंगली डालकर थोड़ी देर अंदर बाहर करने के बाद मैंने अपना सुपारा उसके छेद पर रखा। मैंने उसके होटों को अपने होटों में लेकर फ्रेंच किस करते हुए पूरा जाम कर लिया और फिर लंड को अंदर की तरफ धकेला।

वो चिचियाने और मुझसे छूटने का प्रयास करने लगी पर मैंने अपने दोनों हाथों से उसके दोनों हाथ दबोच रखे थे और पैरों के ऊपर पैरों से दबाव बनाया हुआ था।
ऐसे में उसका निकल पाना नामुमकिन था और इसलिए उसने अपना शरीर ढीला कर दिया।

मैंने लंड को झटका दिया और तीन इंच धंसने के बाद वो रुक गया। मैंने एक जोरदार धक्का दिया और फचाक की आवाज करता मेरा लौड़ा उसके गीली गीली चुत को फाड़ता हुआ अन्दर चला गया।
वो कसमसाई, चिल्लाई पर कुछ नहीं!

बढ़ती हुई स्पीड के साथ उसने अपनी बाहें मेरी कमर में डाल दीं और दस मिनट बाद खुद ही नीचे से धक्के लगाने लगी। पेलते हुए मैंने उसे कुतिया भी बनाया और उसका सर तकिये पर रख कर मैंने उसकी गीली चुत में पीछे से अपना लंड प्रवेश कराया।

गांड को थपथपाते हुए मैंने धक्के लगाने जारी रखे और मेरी रंगीली महबूबा ने अपनी गांड को पेंडुलम की तरह आगे पीछे करते हुए लंड लेना जारी रखा। थोड़ी देर बाद उसकी गीली चुत से वीर्य की धारा बह रही थी।
टेस्टी और गीली चुत को मैंने फिर चाट कर साफ किया और दो राउंड और चुदाई की।

गीली चुत की चुदाई के बाद हम दोनों के एग्जाम बेहतरीन गये।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...