loading...

मेरी पत्नी की सहेली हमलोगो के रूम में सो गयी, तो मैने भी निप्पल मसल दिया

Antarvasna sex story दोस्तो, उस दिन मेरे वाइफ की सबसे अच्छी सहेली मेरे रूम में ही सो गयी। अब जरा सोचिये मेरे पे क्या बीतेगी। आप सबने मेरी कहानियाँ को बहुत पसंद किया, उन फीमेल पाठकों और फेन्स का भी धन्यवाद जिन्होंने मुझे सराहा और अपनी चूत तक चुदवाने कि मुझे पेशकश की।
दोस्तो, मैं फिज़िकली तो आपके पास नहीं आ सकता पर हाँ नेट पर मैं हर वक्त आपके पास हूँ, आप मुझसे हर तरह की बात नेट पर कर सकते हो।

अब आता हूँ सीधा कहानी पर।
मेरी पत्नी मोनिका की सहेली जिसका नाम निशा है, कुछ दिनों के लिए हमारे घर पर आई। वो बिज़नस मैनेज़मैंट की स्टडी करती है उसने स्किल डेवेलपमेंट के बारे में मुझसे कुछ दिनों की गाइडेंस लेनी थी, क्योंकि उसका अगले हफ्ते एग्जाम था, उसके लिए उसे हमारे घर में एक हफ्ते के लिए रहना था।

रविवार था, निशा हमारे घर पर आई और हमने उसे वेलकम किया और उसका रूम उसे दिखाया।
उसके बाद इधर उधर की बातें होती रही।

मैं भी अपने कुछ काम के लिए मार्किट निकल गया मेरे बाद मोनिका और निशा घर पर अपनी बचपन की और कॉलेज की बातें करके अपनी यादें ताज़ा करती रहीं।
मैं घर आया तो इन दोनों ने खाना बनाकर टेबल पर लगा दिया हम एक साथ बैठकर खाना खाने लगे, तो खाना खाते खाते मोनिका बोली- आज मेरी सहेली हमारे पास कुछ दिनों के लिए रहने आई है, यह आज पहली रात हमारे ही रूम में सोएगी।

दोस्तो, जैसे कि आप सभी को पता है हम दोनों पति पत्नी खुले विचारों के हैं, हमारे बीच हँसी मज़ाक चलता रहता है, इस तरह की बातें अक्सर होती रहती हैं, पर यह नहीं मालूम था कि मोनिका कि यह बात सच में ही होगी।

खाना ख़त्म हुआ, हम सभी हमारे बैड रूम मैं बैठ कर टी वी देखते हुए बातें करने लगे, मोनिका भी वहीं पर सभी के लिए दूध लेकर आ गई और मेरे पास बैठ गई।
कुछ देर इधर उधर की बातें करने के बाद मोनिका ने मुझे अपनी बाहों में लेते हुए कहा- ये हैं मेरे जानेमन सनम जो हर रोज़ मुझे खुश करते हैं।
फिर मेरी तरफ देखते हुए कहने लगी- आज मेरी दोस्त निशा को खुश कर दो जानू, इन्हें भी कुछ सिखा दें, आज पहले दिन इनकी क्लास हम शुरू करते हैं।

मैंने मोनिका की तरफ घूर कर देखा और उसे चुप रहने का इशारा किया क्योंकि मैं इस तरह के मूड में नहीं था और न ही मैंने अभी तक इसके बारे में ऐसा कुछ सोचा था।
तभी निशा बोल पड़ी- ले मोनिका, अब तेरे हबी की तो हो गई टाँय टाँय फिश…! तू तो ऐसे ही तारीफों के पुल बाँध रही थी?

मुझे निशा से ऐसी उम्मीद नहीं थी कि वह ऐसे शब्द बोलेगी।
यह सुनते ही मुझे आभास हुआ कि जब मैं मार्किट गया था तो दोनों के बीच कोई बात हुई होगी तभी निशा और मोनिका मेरे साथ ऐसा व्यव्हार कर रही हैं।
मैंने अंदाज़ा लगा लिया कि आज दोनों चुदने के मूड में हैं। तो मेरे दिल में काम देवता जाग उठे और मैंने कहा- अच्छा तो सालियो, यह बात है, कोई ना… अभी दिखाता हूँ तुम्हें!

यह कहते हुए मैंने अपना दूध का गिलास साइड पे रखा और निशा की गर्दन को पकड़ कर उसकी गाल पे एक जोरदार चुम्मी कर ली, निशा बस चिल्लाती रह गई- उई जीजू, आह यह क्या उई… बस, मोनिका मना कर इन्हें!
बस इतना ही कह पाई।
मैंने उसकी बातों से अंदाज़ा लगा लिया कि निशा कहीं न कहीं पहले भी चुद चुकी है और सेक्स की पूरी जानकारी रखती है।
मैंने जल्दी से दूध का गिलास ख़त्म किया और अब निशा के मम्मों को पकड़ लिया, उसके निप्पल मसल दिए।

जैसे ही मैंने उसके निप्पल दबाये तो वो कसमसा कर रह गई और मोनिका की तरफ देखती हुई बोली- मोनिका यार, अपने हबी को समझा ले यार, अगर मैं अपनी आई पर आ गई तो जीजू हाथ जोड़ेंगे चुदवाने के लिए।

‘ओह, तो यह बात है?’ मैंने उसकी तरफ देखते हुए कहा- क्या कर लेगी अरे तू साली?
कहते हुए मैंने फिर उसके मम्मे को छेड़ दिया, मैंने अब उसकी आँखों में एक चमक देखी, तो मैं भी अब तक खुल चुका था, हमें देख कर मोनिका बोली- अरे इधर मैं भी बैठी हूँ।
मैंने कहा- चल तू भी आ जा!
कहते हुए मैंने मोनिका के होंठों को अपने होंठों में ले लिया और जोरदार चुम्बन करने लगा, मेरी जीभ मोनिका के मुंह के अंदर थी… उम्म्हह्हा… मैं ऐसे मोनिका को किस कर रहा था, और निशा हमें देख रही थी।

अब हम में कुछ भी शर्म की बात नहीं रही थी परन्तु मैंने नोट किया कि निशा थोड़ी शर्मा रही है। मैंने तुरंत मोनिका को छोड़ा और उसके कान के पास किस करते हुए कहने लगा- डार्लिंग, अब अपनी सहेली की शरम तो उतार दे पहले!
इतना सुनते ही मोनिका ने ज़ल्दी से निशा को पकड़ते हुए उसकी कमीज़ में हाथ डाल कर उसकी ब्रा उतारने लगी, और निशा उसे रोकने के लिए उसे धकेलने लगी और कहने लगी- अरे न न… बस यार, मोनिका प्लीज यार, रुक!

अभी निशा कह ही रही थी कि मोनिका बोली- अरे साली, अब क्या हो गया? पहले तो बहुत कहती थी कि ‘जीजू बहुत सेक्सी हैं, आज रात को देखती हूँ जीजू की मर्दानगी, साली अब शरमाने का नाटक कर रही है?’
यह कहती हुई मोनिका ने निशा की ब्रा को उतार दिया परन्तु उसने कमीज़ नहीं उतारी।

इधर मोनिका भी गर्म हो चुकी थी और निशा भी शरमाते हुए धीरे धीरे हमसे शरारतें करना चाह रही थी।
मोनिका ने निशा को फिर से पकड़ा और उसकी कमीज़ के बटन खोल दिए और नीचे से हाथ डाल कर उसकी कमीज़ ऊपर कर दी। जैसे ही निशा की कमीज़ ऊपर हुई तो नीचे से उसके दोनों मम्मे नंगे हो गए और मोनिका ने उसके मम्मे पकड़ कर मेरी तरफ कर दिए, मैंने भी तुरंत उसके मम्मे को चूम लिया।

और इस बार निशा बहुत ज्यादा शर्मा गई और एकदम से अपनी कमीज़ नीचे करती हुई कहने लगी- आप बहुत बेशर्म हो, मैं चली, आप मज़े लो!
कहती हुई निशा अपनी कमीज़ ठीक करते हुए उठने लगी तो मोनिका ने उसे पकड़ कर फिर बैड पर बिठा लिया और उसके कान में कुछ कहा, जो मुझे अच्छी तरह सुनाई नहीं दिया, इधर मोनिका ने मेरी पैंट में एक हाथ डाल कर उसकी जिप खोल कर मेरे अंडरवियर से मेरा लौड़ा बाहर निकाल दिया।
यह कहानी आप MyAntarvasna डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

मोनिका के हाथों के स्पर्श से मेरा लौड़ा और तन गया, निशा के एक हाथ को मोनिका ने पकड़ा और मेरा लंड उसके हाथ में दे दिया, इधर मेरा दूसरा हाथ मोनिका ने पकड़ा और निशा के मम्मों पे रख दिया और कहा- लो जानू, आज मेरी दोस्त की पूरी शर्म उतार दो और इसकी जवानी को भी मज़ा दे दो डार्लिंग।

मैं निशा के मम्मे के निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा था, इधर मोनिका धीरे धीरे उसको नंगी किये जा रही थी।
अब निशा को भी मज़ा आने लगा था, वो भी हमारा साथ देने लगी थी, वो बोल कुछ नहीं रही थी बस सिसकारियाँ लेकर मज़ा ले रही थी ‘उन्ह.. आंह… सी… सी.ई… आ.ई…’ ऐसे ही किये जा रही थी।

मोनिका ने उसकी कमीज़ पूरी उतार दी थी, और नीचे से उसकी सलवार भी उतार दी थी, उसके दोनों कबूतर नंगे मेरे हाथों में थे और उसका एक निप्पल मेरे मुख में था, मैं दूसरे हाथ से उसका दूसरा मम्मा दबाता जा रहा था, उसे धीरे धीरे सहला रहा था, पीछे से उसके बदन को हाथ से सहला रहा था और वो गर्म होती जा रही थी।

loading...

अब निशा के शरीर पर सिर्फ एक काली पैंटी बची थी।

इधर मोनिका ने मेरे लंड भी बाहर निकाला हुआ था जिसे मोनिका अपने अब अपने हाथ से सहला रही थी।
अब जैसे ही निशा और गर्म हो गई तो मैंने अपने होंठ निशा के होंठों पे धर दिए और उसे चूमने लगा, और वो भी चुम्बन में मेरा साथ देने लगी।
मैंने एक हाथ से मोनिका की कमीज़ को पकड़ा और उसे उतरने के लिए इशारा किया।
मेरा इशारा देख कर मोनिका ने अपनी कमीज़, सलवार और ब्रा तुरंत उतार दी।

अब बारी मेरी थी, मुझे मोनिका और निशा दोनों ने मिल कर हल्फ नंगा कर दिया, सबसे पहले नंगा ही मैं हुआ, मेरे लंड को मोनिका ने अपने मुँह में ले लिया और इधर मैं निशा के कभी लबों को चूसता, कभी निप्पल को, मोनिका भी मस्ती से मेरे लौड़े और नीचे गोटियों को चूसती जा रही थी।

मैंने निशा को इस कद्र चूसा कि वो जोरदार सिसकारियाँ लेने लगी ‘आ.ह .सी… आ..ई… हु..ई. उ..ई.. जी…जू… आ…ह .जी.जू.. उ…ई. .सो.नि.या. .ब.स. .बस. .चू.स… लो… आह.. आ…ह.. मे..री …ज..वा…नी चूस.. जी.जू… आ.ह.. उ.ई..’ निशा सिसकारती हुई मज़ा ले रही थी।

‘साली अब ले ले अपने जीजू की जवानी का मज़ा…’ कहती हुई मोनिका ने मेरी गाल पर चुम्मी कर दी, मैंने भी तुरंत एक हाथ से मोनिका के मम्मे को दबा दिया।

अब मैं निशा की जोरदार चुसाई कर रहा था कि मोनिका की पैंटी में हाथ डाल कर एक हाथ से उसकी गीली हो चुकी चूत के अंदर उंगली डाल कर उसे आगे पीछे करके उसे मज़ा देने लगा, मोनिका भी सिसकारने लग गई थी। ‘सालियो चुदो अब…’ कहते हुए मैंने मोनिका की चूत से उंगली निकाली और निशा की पैंटी उतार कर उसे पूरी तरह से नंगी कर दिया।
मैंने निशा की तारीफ करते हुए कहा- वाओ साली निशा, क्या खूबसूरत जवानी है साली की, आज चुद ले जीजू से!
निशा शर्माते हुए अपनी चूत छुपाने की कोशिश करने लगी, मैंने उसकी दोनों टांगों को अपनी जांघों पर रखा और उसकी चूत की फांकों को अपने दोनों हाथों की उंगलियों के बीच लेकर अपने सामने खोल दिया।
निशा की चूत फ़ूल कर मेरे सामने थी।

मैंने अब निशा की चूत को अपने होंठों में ले लिया और उसे चाटने लगा।
निशा कि सिसकारियाँ बहुत तेज हो गईं थीं, वो मज़े से सिसकने लगी थी।
मैंने निशा की चूत में अपनी जीभ डाल दी और अपने हाथों से उसकी कमर को पकड़े हुआ था, वो अपनी चूत मुझसे चुसवा रही थी।
मोनिका हमें देख कर कह रही थी- अब ले ले अपने जीजू की जवानी के मज़े मेरी जान!
मैं उसको बहुत ज्यादा उत्तेजित करना चाहता था, इसलिए मैंने उसकी चूत के अंदर तक अपनी जीभ डाल दी और चूत के अंदर बाहर करने लगा ताकि उसे ज्यादा से ज्यादा मज़ा आ सके।

वो सिसकार रही थी।
मैंने उसकी चूत को इस कद्र चूसा कि उसकी चूत ने मेरे मुंह में पानी छोड़ दिया और वो चिल्लाने लगी- उ..ई… आ…ह… आ..ह… आ..ह…. सी… सी… सी… सी.स… इ.स… इ..स… इ…सी.. उ..ई… आ… ग.ई… ग…ई…ई…ग.ई… मैं… ग..ई.. आ…ह… आ.ह.. चूसो… चू..सो.. चू.सो… आ…ह.. …उई…ह…. उ.ई… जी…जू… आ…ह… सो.नि..या.. .सा.ली.. चु..स..वा ..दि..या… ..मु.झे… .आ.ह. .आ…ह.. .उ.ई… हुई… उ..ई.. उ.न…म.. आ..ह.. उ.ई… सी… ..सी..स .इस.. उई!

ऐसे सिसकती हुई निशा ने मेरे मुंह को अपनी जवानी के रस से भर दिया। अपनी चूत चुसवाती हुई निशा ने जोर से अपनी टाँगें हिलाई और एक साथ अपनी चूत को पूरी तरह से मेरे मुंह में निचोड़ दिया।

मैंने उसकी चूत को छोड़ा और देखा कि मोनिका भी निशा की चूत चुसाई देख कर गर्म हो चुकी थी तो मोनिका की चूत को भी मैंने अपने मुंह में लिया और उसकी भी चूत को चूस कर एक बार अपने मुंह में झड़वा दिया।
इस तरह एक एक बार दोनों झड़ चुकी थीं, अब बारी मेरी थी, मेरे लौड़े को मोनिका ने अपने मुंह में लिया और साथ ही निशा भी मेरे सामने बैठ गई दोनों मेरे लंड को पकड़ कर चूसने लगीं, अब बारी बारी दोनों मेरे लंड को चूसने लगी थीं।
अब वो दोनों बदल बदल कर मेरे लंड को अपने मुंह में लेती और तेज तेज चुसाई करती।

अब मोनिका का मकसद था कि ज़ल्द से ज़ल्द मेरे लंड का पानी निकल जाये।
वही बात हुई, निशा और मोनिका की जोरदार लंड चुसाई से मैं ज्यादा देर तक टिका नहीं रह पाया और मेरे लंड ने निशा और मोनिका का मुंह भर दिया मेरे लंड की धार सीधी निशा के चेहरे पर पड़ी।
इस तरह मेरे लंड का पानी भी निकल गया।

उन्होंने मेरा लंड छोड़ा और उसके बाद मैंने कहा- आओ मेरी सालियो, अब तुम्हारे मर्द का लौड़ा तुम दोनों की चूतों को शांत करेगा सालियो!
यह कहते हुए मैंने पहले निशा की चूची को पकड़ा और दूसरे हाथ से मोनिका की चूची को पकड़ते हुए अपने पास ले आया।
अब मोनिका और निशा मेरे सामने नंगी होकर डर्टी चुदाई करवाने को तैयार थीं तो मैंने पूछा बताओ- मेरी रांडो, पहले किसकी आग शांत करूँ?

तो निशा बोली- जीजू, मोनिका तो साली रोज़ मज़े लेती है भोसड़ी की, आज मेरी चोद दो!
मैंने मोनिका की तरफ देखा तो वो सिर्फ मुस्करा दी, मैंने उसकी सहमति पाकर निशा को उल्टा लिटाया और उसकी चूत के अंदर पहले एक ऊँगली डाली और उसका मुआयना करने के बाद उसकी चूत में अपना लौड़ा उतार दिया।
तभी निशा चीखने लगी- उ…ई. आ..ह… आह… सी… सी..सी… में… म…री..री…री आ..ह… उ..ई… ब..स.. ब.स.. .ब.स क…रो.. नि…का..लो… बा.ह…र. .आ…ह..

मैं अपना लंड उसकी चूत में उतारता ही जा रहा था, मैंने अपने टट्टे तक उसकी चूत के साथ सटा दिए और मेरा लौड़ा उसकी बच्चेदानी तक उतर गया।
वो पहले तो चीख रही थी परन्तु बाद में मजेदार सिसकारियाँ भरने लगी और कहने लगी- उ…ई… आ.ह… आहा.. हाँ..हाँ… ऐ.से. ही जो…र.. से .जो.र.. से ..आ…न.हाँ. .हाँ.हाँ. .चो.द… चो.दो… चो.द.. दो.. मु..झे… आ.ह.. आ…ह .उ.ई.. मे.रे.. रा.जा जी…जू. आ.ह… हाँ… ऐ..से.. ही… उई… आई… हाँ… ह.ना… हाँ… हाँ..चो.द. …लो .अ.प.नी. ज…वा.नी.. साली.. की… फुद्दी… चो…द..दो. ..उ..ई… आ.ह… .आ.ह… सो…निया… सा…ली… ग…ज…ब… है.. जी..जू… आ.ह म…र्द… सा…ले… चो..द… चो.द… चो…द.. दे.. अ..प…नी… सा…ली.. .की… आ.ह… आ.ह… उ…ई… उ…ई… उ…ई.. उ…ई… आ…ह..

निशा मेरे लंड से जोरदार ढंग से चुद रही थी और ऊपर से मोनिका मुझे किस कर रही थी, मैंने अपनी एक उंगली मोनिका की चूत में डाल दी और मोनिका की चूत को अपनी उंगली से चोदने लगा।
मोनिका भी सिसकारियाँ ले रही थी, मैं कह रहा था- लो… सा…ली… चु…दो… अ…ब… अ.प..ने… म..र्द… से… चु..द…क..ड़… ..औ..र..तों… हाँ… चु…दो… कु…ति.या… हाँ… चु.द… ऐ..से… ही… मे.री… जा.न.. उ…ई… सा.ली… मा..द…र…चो.द… कु..ति.या… ब.ह.न… की… लौ…ड़ी… साली… आ..ह… उ..ई. लो… चु…द… चु…दो… अ..प…ने… या.र… के… लौड़े… से.. सा.लि..यो… तु.म… दो..नों. ..की.. तो… आ.ज… गांड. …फ.ट… जा.ये.गी… कुति…यो… तु..म… दो…नों… को…तो… मैं अ…प..ने… दो..स्तों.. के… सा.थ… चो..दूँ..गा… सा.लि.यों… तु..म्हा…री… गां.ड.. औ.र.. चू…तों ..ए…क.. .सा..थ… चो.दूँ.गा. ..आ..ह. .उ…ई. .ले… देख… सो…नि.या. .ते…री… सहेली.. नि…कि.ता. .की… फ..ट… ग.ई…’

इस तरह निशा की चूत तो साली की चुद ही गई थी, उसकी चूत से पानी निकल कर मेरे टट्टों पे गिरने लगा था और मेरे टट्टे निशा की चूत के रस से भीग गए थे।
मेरे होंठ मोनिका के होंठों को चूस रहे थे, एक साथ मैं दो दो लौंडियों को शांत कर रहा था।

दोस्तो, जैसे कि तुम्हें मालूम ही है कि हम दोनों पति पत्नी जब चुदाई करते हैं तो पूरा खुल जाते हैं, इस मामले में हम दोनों फुल्ली ओपन हैं।
निशा नीचे से जोर लगा कर अपनी चूत को ऊपर उठा रही थी, अब निशा दूसरी बार झड़ चुकी थी, मैंने उसकी झड़ चुकी चूत से लंड निकाला और मोनिका की चूत में डाल दिया, अब मैं मोनिका की जोरदार चुदाई कर रहा था, निशा के मम्मों को मुंह में लेकर चूस रहा था और मोनिका की चूत को चोद रह था, कभी कभी मोनिका के मम्मों को भी चूस लेता।

इस तरह जोरदार चुदाई से मोनिका भी झड़ गई और मेरे लंड ने भी पानी छोड़ दिया, मैंने अपने लंड का पानी मोनिका कि चूत के अंदर ही गिराया और कुछ बचा हुआ पानी निशा के मम्मों पे गिराया।
निशा और मोनिका और मैं हम सभी शांत हो चुके थे।
हम खुश थे और हम तीनों जबरदस्त चुदाई से थक गए थे।
दोस्तो, इस तरह निशा की चुदाई हुई और मोनिका भी चुदी, मेरे लौड़े ने दोनों की खूब चुदाई की।
उसके बाद निशा कुछ दिन हमारे घर पर रही और वो हर रोज़ चुदती रही।

इस तरह मोनिका की नजदीकी दोस्त ने चुद कर साली होने का असली फर्ज़ निभा दिया।
दोस्तो, आपको मेरी कहानियाँ कैसी लगती हैं, आप मेल जरूर करना, मुझे आपकी मेल्स का इंतजार रहेगा।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...