loading...

एक तरफा प्यार 

Desi antarvasna मेरा नाम पूर्वा जैन है.. मैं म.प्र. की रहने वाली हूँ। मैंने बीबीए किया हुआ है। मेरा रंग गोरा है.. मैं एक बहुत ही सुंदर लड़की हूँ.. लेकिन थोड़ी सी मोटी हूँ।
हालांकि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं मोटी हूँ या पतली.. मैं तो बस इतना जानती हूँ.. यदि किसी पर दिल आ गया तो चाहे वो मोटा हो या पतला.. बस दिल खुश रहना चाहिए।
चलो अब मैं आपका ज़्यादा टाइम ना लेते हुए.. अपनी स्टोरी पर आती हूँ।

बात उस समय की है.. जब मैं अपनी पढ़ाई कर रही थी। मेरी क्लास में एक लड़का था.. वो बहुत ही सुंदर था। उसको देख कर किसी भी लड़की का दिल उसकी तरफ हो जाता था। मेरा भी मन उसकी तरफ गया.. पर मैंने कभी बोला नहीं कि मैं तुमसे लव करती हूँ।

उसका नाम दीपक था.. मैं हमेशा उसके साथ बैठती थी। कई बार उसको टच करती.. कई बार उसकी बॉडी से अपनी बॉडी टच करती.. पर पता नहीं क्यों.. उसने कभी मेरी इन हरकतों पर ध्यान ही नहीं दिया। शायद मेरे मोटापे के कारण.. खैर जो हुआ सो हुआ.. मैंने अपनी बीबीए-प्री करके अपने ही सिटी में एमबीए ज्वाइन कर लिया।
फिर एक दिन अचानक फेसबुक पर मैंने उसे छेड़ा.. तो दिल की बात बोल दी।

तो उसने भी ‘हाँ’ बोल दिया।

फिर उसने मेरा नंबर लिया.. हम लोगों की बात होना चालू हो गई।
एक दिन वो मुझसे मिलने आया.. मैंने उसको अपने घर पर ही बुला किया। मेरे घर पर उस दिन कोई नहीं था.. तो मौका था। मुझे पता नहीं था कि उसको क्या करना है.. लेकिन मेरे दिमाग में ऐसा कुछ नहीं चल रहा था।
जैसे ही वो घर पर आया.. मैंने उसको अपने कमरे में बुला लिया.. वो आते ही मेरे से चिपक गया और किस करने लगा, फिर क्या था मैंने भी उसका साथ दिया।

करीब 10-15 मिनट बाद उसने मेरे मम्मों को दबाना चालू कर दिया। मैं घबरा गई.. मैंने उससे बोला- शादी से पहले मैं ये सब नहीं करूँगी..
तो उसने बोला- मेरी जान शादी जब होगी.. तब होगी अभी तो मैं तुमको चोद कर रहूँगा।

यह सुन कर मेरे होश उड़ गए।

मैंने बोला- तुम इसलिए यहाँ आए हो?

उसने बोला- नहीं यार मैं तुमसे प्यार करता हूँ.. तुमसे मिलने आया हूँ। तुम जो चाहो वो करूँगा।

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
यह सुन कर मैं उससे अलग हो गई। फिर उसने मेरे से पानी माँगा.. मैं पानी लाई बस फिर मैं उसके लिए चाय बनाने रसोई में चली गई.. पर उसको तो बस एक ही जिद थी कि कब वो मुझे चोदे..

फिर वो मेरे पीछे आ गया, इस बार उसने मुझे किस करना स्टार्ट कर दिया और शायद उसने अपने मुँह में सेक्स की गोली दबा रखी थी.. जो कि किस करने से मेरे मुँह में आ गई।
गोली खाने के कुछ पलों बाद मैं अपने कंट्रोल से बाहर हो गई.. मैं भूल गई सब..

अब उसके साथ मैं भी उसका साथ दे रही थी।

वो मुझे कमरे में ले गया, फिर उसने मेरे चूचे दबाना शुरू कर दिए और पता ही नहीं चला कब उसने मुझे ब्रा और पैन्टी में कर दिया।

अब उसने मेरी ब्रा और पैन्टी भी उतार दिए.. और मेरे मम्मों को चूसने लगा।
मैं आउट ऑफ कंट्रोल हुई जा रही थी। मैं भी उसके कपड़े उतार कर अलग करने लगी.. उसने भी अपने कपड़े उतारने में देर न लगाई.. मैं तो हैरान रह गई उस का लंड देख कर.. करीब 7 इंच का होगा, मैं बोली- इतना बड़ा.. मेरी तो चूत फट जाएगी।

loading...

उसने कहा- इसको हाथ में लेकर हिलाओ।

मैंने हिलाना शुरु कर दिया.. फिर बोला- अब इस को मुँह में ले लो।

मैंने मना किया.. तो इस बार उसने कस के मुझे एक झापड़ मारा.. और बोला- इसको मुँह में ले.. नहीं तो मैं तुमको छोड़ कर चला जाऊँगा..
यह सुन कर मैंने उसका लंड मुँह में लेने की कोशिश की.. पर अजीब लग रहा था। तो उसने मेरा सिर पकड़ कर अपना लंड मुँह में पेल दिया।

थोड़ी देर बाद मुझे भी मज़ा आने लगा, अब वो मेरी चूत से खेल रहा था, मेरी झाँटों को खींच रहा था।
फिर अचानक से उसने बोला- अपनी टाँगें फैलाओ।

मैं डर गई.. पता नहीं ये क्या करने वाला है।

मैंने अपने टाँगें फैला दीं।

उसने बोला- आज तुझे मैं जन्नत की सैर करवाता हूँ।

यह बोल कर उसने अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया।
जैसे ही उसने लंड डाला.. मेरे मुँह से बहुत ज़ोर से आवाज़ आई- आह्ह.. मर गई.. आज तो तू मार ही देगा मुझे..

उसने मेरी चूत से लंड बाहर निकालते हुए एक और झटका लगाया.. तो उसका लंड मेरी चूत फाड़ते हुए अन्दर समा गया।

मुझे अब अपना होश ही नहीं रहा.. कि मेरे साथ क्या हो रहा है.. मैं बेहोश हो गई थी।
फिर उसने आराम-आराम से अपने लंड को आगे-पीछे किया.. तो थोड़ी जान में जान आई और मज़ा भी बहुत आने लगा।

फिर करीब 5-6 झटकों में मैं पानी छोड़ गई.. पर वो तो बहुत कमीना था… पता नहीं कितनी लड़कियों को चोद चुका होगा.. झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था।
करीब 15 मिनट बाद वो झड़ गया और उसने अपना पानी मेरी चूत में ही निकाल दिया।

जब मैं उठी.. तो मुझसे चलते भी नहीं बन रहा था।

जैसे-तैसे मैं उठ कर बैठी।

उसने कहा- मेरा जाने का टाइम हो गया है.. अब फिर कभी आऊँगा तो तेरी गाण्ड मारूँगा।
इतना बोल कर उसने अपने कपड़े पहने और चला गया.. पर उस दिन उसने मेरी सील तोड़ दी थी और अगले 2 दिन तक मेरे को बुखार रहा..

loading...

अन्य मजेदार कहानियाँ

>