loading...

देसी भाभी के साथ रात भर मस्ती

दोस्तो.. मेरा नाम राज है और मैं रोहतक (हरियाणा) के पास एक गाँव से हूँ। अब मैं बहादुरगढ़ में रहता हूँ।

मैं अपने बारे में बता दूँ.. मैं 25 साल का एक 5’10” की हाइट का हट्टा-कट्टा लड़का हूँ और लौड़े का साइज मैंने कभी नापा नहीं है।
यह मेरी पहली कहानी है.. बात जुलाई 2011 की है.. आपको बता दूँ.. भाभी का नाम सुनीता (काल्पनिक) है.. ज्यादा खूबसूरत नहीं है। लंड को तो चूत से मतलब होता है.. उनकी एक बेटी है.. उनके पति अपनी खुद की गाड़ी चलाते हैं। वो महीने में 5-7 दिन बाहर रहते हैं.. उनका नाम राजू है और उनका घर गाँव से थोड़ा बाहर है।
एक बार हमारा टयूबबैल खराब हो गया.. तो मेरे पापा ने कहा- जा.. अपने भाई राजू (भाभी के पति) से टयूबबैल खोलने के लिए चाबी ले आ।

क्योंकि उनका घर हमारे खेत के पास है।

मैं चाबी लेने उनके घर गया.. तो भाभी और उनके पड़ोस की लड़की बैठी बात कर रही थीं।
मुझे देखकर भाभी बोलीं- आओ देवर जी, किस चक्कर में घूम रहे हो?

यह कहकर भाभी और वो लड़की हँसने लगी।

मैं बोला- भाभी टयूबबैल के कमरे की चाबी चाहिए।

इतने में एक कुतिया घर में आ गई।

भाभी हँसते हुये बोलीं- लगता है कुतिया की में हिला रहे हो!

मैं बोला- क्या कह रही हो।

वो बोली- कुछ नहीं.. तुम्हें शादी के टाइम समझाना पड़ेगा।
यह सुनते ही मेरा लौड़ा खड़ा हो गया।

मैंने कहा- आप तो चाबी दे दो..

भाभी बोली- चलो.. आगे वाले कमरे में है।
भाभी उस लड़की को बैठने को कहकर आगे वाले कमरे में जाने लगीं और मैं भाभी के मटकते चूतड़ों को देखता हुआ उनके पीछे चलने लगा।
मेरा मन तो कर रहा था कि आज भाभी के चूतड़ों में लौड़ा बाड़ दूँ.. पर मुझे डर भी लग रहा था.. क्योंकि मैंने अब तक कभी किसी को नहीं चोदा था.. बस लड़कियों और भाभियों को देखकर मुठ मारता था।
कमरे में थोड़ा अंधेरा था।

भाभी झुक कर नीचे थैले में चाबी देख रही थीं.. और मैं पीछे से उनके चौड़े चूतड़ों को देखते हुए अपनी पैंट के ऊपर से लौड़ा सहला रहा था।
मैं धीरे से भाभी के पीछे जाकर खड़ा हो गया और बोला- भाभी.. इसमें चाबी नहीं मिल रही है तो दूसरे थैले में देखो..
भाभी दूसरे थैले में देखने लगीं.. पर झुकी ही रहीं। मैं धीरे से लंड को उनकी गाण्ड से टच करने लगा। भाभी एक बार को रुकीं और फिर चाबी देखने लगीं।
अब मैंने सोचा जो होगा देखा जाएगा.. मैंने पैंट की चैन खोलकर लौड़ा निकालकर भाभी के चूतड़ों पर लगाकर भाभी के पेट को कस कर पकड़ लिया।

भाभी बोलीं- छोड़.. ये क्या कर रहा है?

मैं बोला- मेरी जान.. आज गाण्ड मारनी है तेरी..

मैं ऐसे ही पकड़े-पकड़े धक्के लगाता रहा, भाभी छुड़ाने की कोशिश कम कर रही थीं.. बस कह रही थीं- छोड़ दे.. कोई आ जाएगा।

मैंने 10-12 धक्कों के बाद उनकी सलवार पर ही माल छोड़ दिया।
भाभी बोलीं- बस इतना ही दम था?

मैं बोला- जान.. कभी रात में मिलना.. फिर दम का पता चलेगा।

भाभी बोलीं- कभी क्यों.. हो सके तो आज रात को तुम्हारे भाई फरीदाबाद गए हुए हैं शायद ना भी आएं.. तू आज ही आ जा..
मैंने अपना मोबाइल नम्बर दिया और कहा- भाई ना आएं.. तो बता देना।

भाभी बोलीं- ठीक है.. लेकिन चाभी तो नहीं मिली।

मैंने कहा- कोई बात नहीं.. मैं पापा को बता दूँगा कि नहीं है।

मैं उनके होंठों को चूम कर खेत की ओर चल पड़ा।

आज मैं बहुत खुश था कि जिंदगी में पहली चूत मिलने वाली है और वो भी इतनी जल्दी..
मैंने खेत में जाकर पापा को कहा- चाबी नहीं मिली और अब मैं आगे वाले खेत में घूमकर आता हूँ।
फिर अगले खेत में जाकर मैंने लंड को मुठ मार कर ठंडा किया और घर आ गया।
घर आने के बाद मैं टीवी देखने लगा फिर शाम 8:30 बजे खाना खाकर अपने कमरे में लेट गया और भाभी की चुदाई के बारे में सोच कर लौड़ा सहलाने लगा।

फिर चैन नहीं पड़ा तो फिर से लंड का माल निकाल कर सो गया।
रात को करीब 10:40 पर मेरे मोबाइल पर फोन आया।

मैं बोला- हैलो..

उधर से एक औरत की आवाज आई- सो गए क्या?

मैं बोला- कौन?

loading...

वो बोली- दिन में तो ‘जान’ कह रहे थे अब ‘जान’ को भूल गए?
मैं समझ गया और बोला- तुम्हें कभी नहीं भूल सकता जानू.. बताओ कैसे याद किया?

वो बोली- आज तुमहारा दम देखना है.. 20 मिनट में आ जाओ।

मैं बोला- अभी आया.. जान तुम चूत खोल कर तैयार हो जाओ।

वो बोली- जल्दी आओ..

और उसने फोन रख दिया।
मैं नीचे गया और देखा मम्मी-पापा सो रहे हैं.. तो मैं दीवार कूद कर चल पड़ा अपनी चूत के पास..

उनके घर के पास पहुँच कर मैंने फोन किया.. तो वो बोलीं- पीछे की दीवार से आना.. किवाड़ खुले हैं।
मैं दीवार कूद कर अन्दर गया.. दरवाजा खोला तो देखा भाभी के बाल खुले थे.. लाल होंठ.. काली सलवार और सफेद कुरती.. मस्त लग रही थीं।
जोश के कारण मेरा बदन कांप रहा था.. अन्दर घुसते ही मैंने भाभी को दबोच लिया और उसके होंठों को पागलों की तरह चूसने लगा।

मैंने भाभी से कहा- जानू.. एक बात पूछूँ?

वो बोलीं- हाँ पूछो?
मैं बोला- भाई तुम्हारी चुदाई कितने दिन में करते हैं?

वो बोलीं- वो तो बस 4-5 दिन में एक बार ही करते हैं और ना मुझे गरम करते हैं.. बस अन्दर डालते ही उनका माल निकल जाता है और मैं तड़पती रह जाती हूँ.. आज तुम मेरी तड़प मिटा दो।

मैं बोला- जान.. अब तुम्हारी ऐसी चुदाई किया करूँगा.. कि तुम कभी लंड की प्यासी नहीं रहोगी।

वो बोलीं- अब बातें ना चोदो, तड़पाओ मत.. प्यार करो मुझे..
अब तो मुझे भी सब्र नहीं हो रहा था। मैं पागलों की तरह उन्हें चूमने लगा, कभी गालों को.. कभी होंठों को..

भाभी भी मेरा लंड पैन्ट के ऊपर से दबाने लगीं।
मैंने फटाफट अपने सारे कपड़े उतार दिए और उनके कपड़े भी उतारने लगा।

भाभी की चूचियाँ देखकर मैं उन पर झपट पड़ा.. बारी-बारी से उनका रस पीने लगा।

भाभी तो पागल सी हो गई थीं, बोलीं- राज इन चूचियों को और जोर से चूसो.. आह्ह्ह आह्ह्ह..
मैंने उनकी चूत में उंगली डाली तो वे सिसकारी लेने लगीं- सीह्ह्ह.. आह्ह्ह..

वो मेरे लौड़े को मुठियाने लगीं।

मैंने कहा- डार्लिंग.. लौड़े को चूस लो न..
बस वो तो मेरे इतना कहते ही मेरा लण्ड चूसने लगीं।

कुछ ही पलों में मैं तो झड़ने ही वाला था.. तो उन्होंने लौड़े को बाहर ही निकाल दिया
अब मैंने उन्हें लिटा दिया.. और चढ़ गया उनके ऊपर और होंठों को चूसने लगा, वो भी अपने हाथ से लौड़े को चूत पर सैट करने लगीं। चूत पर लौड़ा लगते ही मैंने जोर का धक्का मारा.. तो आधा लौड़ा चूत में घुस गया।

भाभी ने हल्की सिसकारी ली- आआआईई.. माँ.. धीरे कर ना..

फिर मैंने एक झटका और मारा पूरा लंड भाभी की चूत में फिट हो गया।

भाभी की चीख निकल गई ‘आआई… ईउउउ.. सीसीसी..’
उनकी आंखों में पानी आ गया था.. भाई बहुत टाइट चूत थी उनकी।

फिर मैं ऐसे ही जोर से चुदाई करने लगा।

भाभी भी अब मजा लेने लगीं और झटके के साथ उनकी चूचियां भी ऊपर-नीचे हो रही थीं।

थोडी़ देर बाद मैं बोला- जान.. अब तुम लंड की सवारी करो।
फिर भाभी मेरे ऊपर आ गईं.. और लंड को चूत पर सैट करके लंड पर बैठ गईं।

अब भाभी लंड पर बैठकर ऊपर-नीचे होने लगीं.. बस 3-4 मिनट बाद भाभी तेज आवाज निकालने लगीं- आआइ..इ. राजज.. गई.. मैं तो.. आआहह.. सीसीई.. पूरा डाल दे..
मैं भी अब नीचे से झटके मारने लगा।
भाभी ‘आआहह..’ करते हुए झड़ गईं। मैंने भी झटकों की स्पीड बढ़ा दी.. और 5-7 झटकों में मैं चूत में ही झड़ गया।

भाभी मेरे ऊपर ही लेट गईं और हम आपस में ऐसे ही होंठों को चूसने लगे।
करीब 5 मिनट बाद भाभी पास ही लेट गईं और कपड़े से पहले मेरा लंड पोंछा फिर अपनी चूत साफ़ की।

भाभी फिर मेरे लंड से खेलने लगीं और मैं उनकी चूचियां दबाने लगा और कभी चूतड़ों को सहलाने लगा।
मैं बोला- जानू.. मुझे तेरी गाण्ड में भी लौड़ा डालना है।

भाभी बोली- रहने दे.. बहुत दर्द होता है आज नहीं.. अगली बार मिलेंगे.. तब पक्का गाण्ड मार लेना।

मैंने भी जोर नहीं दिया और मैं उनकी चूचियों को बारी-बारी पीने लगा।
दोस्तो उस रात भाभी को मैंने कई बार चोदा.. और सुबह 4 बजे उनके होंठ चूम कर आने लगा तो उनकी एक पड़ोसन ने मुझे निकलते देख लिया।
आगे बताऊंगा कि कैसे मैंने उस पड़ोसन को चोदा और भाभी की गाण्ड मारी।

loading...

अन्य मजेदार कहानियाँ

>