Month: February 2018

loading...

चूत की पारी को अपना लंड दिया

Antarvasna sex, चूत की पारी को अपना लंड दिया. हे दोस्तों मेरा नाम राज है और मैं एक लड़की से कुछ दिन चैट कर रहा था. कुछ दिनों के बाद बहुत मुश्किल से उसने अपना फोन नंबर और टाईम दिया और कहा...

मस्त भाभी की प्यासी चूत

मस्त भाभी की जवान प्यासी चूत, तो दोस्तों सीधा पॉइंट पे आता हूँ। बात उस समय की है जब मैं पहली बार मुंबई आया था और अपने नए किराए के मकान में रहने आया था. उस समय उस मकान के बगल...

आंटी को गुस्से में चोद दिया

 आंटी को गुस्से में चोद दिया। तो आज मैं आप लोगों को अपनी एक ऐसी हक़ीकत से रूबरू करवाना चाहता हूँ, जो की मेरे साथ पहले कभी नहीं हुई थी। ये होने के बाद मैं मन ही मन बड़ा खुश होता...

ऊफ तरस गयी हूँ

तरस गयी हूँ। मैं अपनी मकान मालकिन को “चाची” कहकर बुलाता हूं। पर वो कुछ ज्यादा ही गुस्से वाली है। चाची लगभग 37 साल की होंगी, पर वह बहुत मोटी है अन्य देसी औरतों की तरह। पर वो और हॉट और...

अस्पताल नर्स की कुवारी चूत

अस्पताल की नर्स की कुवारी चूत। दोस्तों अपने बारे ने कुछ बता दूँ आपको। मैं जींद का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र लगभग लगभग बीस साल हो चुकी है और एक अच्छे मजबूत हट्टे कट्टे शरीर का मालिक हूँ। मैं अब...

चपरासीन की चूत चोद माँ बनाया

 चपरासीन की चूत चोद माँ बनाया। तो दोस्तों मेरी उम लगभग तीस साल है। शुरू से ही मेरी जिन्दगी में हमेशा मेरी एक ही कमजोरी रही है या यूँ कहूँ की अच्छी बात। और वो की दूसरों की मदद करना और...

आंटी की चूची मसल दी चलती ट्रेन में

Chudai ki kahani, desi sex stories, आंटी की चूची मसल दी चलती ट्रेन में। उस समय मैं फर्स्ट टाइम किसी गर्ल या आंटी की चुचियों को हाथ से सहलाया या मसला था। यह उसी समय की कहानी है। मेरा नाम सूर्या...

स्कुल टीचर का अधखुला ब्लाउज

एक दिन मैं दुकान में गया तो वहाँ कोई नहीं था। मैंने दुकान के मालिक को आवाज़ लगाई तो परदे के पीछे से कुछ-कुछ हड़बड़ान सीे आवाजें आई। और थोड़ी देर में दुकानदार लुंगी पहन के बाहर आया. उसके चेहरे से...

चाचा के माल की चुदाई

Antarvasna, चाचा की माल की उनसे बेहतर चुदाई कर दी। उन दिनों मुझे मैथ्स को समझने-पढ़ने में दिक्कत आती थी. तो मेरे चाचा के पहचान की एक टीचर थी. जिनका नाम रोशनी था। चाचा ने उन्हें मुझे मैथ्स पढ़ाने को कहा...

रेल गाड़ी में मिली चूत

रेल गाडी में चूत मिल गयी।  मैं एक्सप्रेस ट्रेन में अपनी ड्यूटी पर जा रहा था। उस समय रक्षाबन्धन की वजह स बहुते भीड़ बहुत थी। मुझे अपने साथ वालो के साथ दिल्ली से अलीगढ़ जाना था। गाजियाबाद से ही बहुत भीड़...